शिवपाल यादव, समाजवादी पार्टी से अलग समाजवादी सेक्यूलर मोर्चा बना चुके हैं और धीरे-धीरे समाजवादी पार्टी से अपना नाता तोड़ने लगे हैं. रविवार को शिवपाल यादव का ट्विटर पर नया प्रोफाइल सामने आया जिसमें उन्होंने खुद को समाजवादी सेक्यूलर मोर्चा के नेता के तौर पर लिखा है, जबकि पुराने प्रोफाइल में सीनियर समाजवादी लीडर लिखा था.

शिवपाल यादव ने खुद को लगभग समाजवादी पार्टी से अलग कर लिया है सिर्फ नई पार्टी की औपचारिकताएं बाकी हैं. जिस तरीके से उन्होंने सोशल मीडिया पर अपना अकाउंट बदला है, साफ है कि उनके समर्थक भी सोशल मीडिया पर अपनी अलग पहचान दिखाने लगेंगे.

शिवपाल यादव दो दिन पहले ही इस बात का एलान कर चुके हैं कि उनकी पार्टी 80 सीटों पर लोकसभा में अपने प्रत्याशी उतारेगी साथ ही उन्होंने समाजवादी पार्टी को इशारों में उनके बगैर गठबंधन करने की चुनौती भी दे डाली है. ये दिखाता है कि शिवपाल यादव को अपने इस नए कदम पर समर्थन भी मिल रहा है. जैसे-जैसे शिवपाल यादव अपने पार्टी के लिए अलग रास्ता तैयार करते जा रहे हैं वैसे-वैसे उनका आत्मविश्वास भी बढ़ता जा रहा है और वो अखिलेश यादव के लिए चुनौती भी बनते जा रहे हैं.

आजतक से खास बातचीत में शिवपाल यादव पहले भी कह चुके हैं कि दिवाली के आसपास उनकी नई पार्टी का खाका सामने आ जाएगा. ऐसे में हर दिन शिवपाल यादव का समाजवादी पार्टी पर होने वाला हमला, चुनाव के पहले अखिलेश का सिरदर्द बढ़ा सकता है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here