मुलायम ने अपने भाषण की शुरुआत करते हुए कहा कि मेरी इच्छा है कि समाजवादी पार्टी कभी बूढ़ी न होने पाए तो पार्टी कार्यकर्ताओं में जोश भर गया. इसके बाद मुलायम सिंह यादव ने अपने पूरे भाषण को लड़कियों और महिलाओं के राजनैतिक सशक्तिकरण पर केंद्रित कर दिया.

नई दिल्ली: आज समाजवादी पार्टी की साइकिल यात्रा की समापन रैली में सपा प्रमुख अखिलेश यादव की मौजूदगी के बावजूद मुलायम सिंह यादव ने महफिल अपने नाम कर ली. मुलायम सिंह यादव ने अपने छोटे से भाषण में महिलाओं को राजनीति में आगे करने पर बहुत अधिक ज़ोर दिया.

क्या था मौक़ा

यूपी की योगी सरकार की नाकामियां बताने के लिए समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता यूपी के हर विधान सभा क्षेत्र में साइकिल यात्रा पर निकले थे. एक महीने से चल रही इस सामाजिक न्याय यात्रा का समापन दिल्ली के जंतर-मंतर पर रविवार को एक भव्य रैली से हुआ.

सपा के सभी पदों पर हों महिलाएं

मंच पर सपा के राष्ट्रीय महासचिव राम गोपाल यादव और सपा प्रमुख अखिलेश यादव भी मौजूद थे लेकिन बाज़ी समाजवादी पार्टी के संरक्षक और निर्माता मुलायम सिंह यादव ने मारी. मुलायम ने अपने भाषण की शुरुआत करते हुए कहा कि मेरी इच्छा है कि समाजवादी पार्टी कभी बूढ़ी न होने पाए तो पार्टी कार्यकर्ताओं में जोश भर गया. इसके बाद मुलायम सिंह यादव ने अपने पूरे भाषण को लड़कियों और महिलाओं के राजनीतिक सशक्तिकरण पर केंद्रित कर दिया. ख़ास बात ये रही कि मुलायम ने इसे अन्य दलों के भरोसे न छोड़ कर ख़ुद समाजवादी पार्टी में इसे लागू करने पर ज़ोर दिया.

अपने भाषण में मुलायम सिंह यादव ने कहा कि, “मैं पार्टी से कहना चाहता हूं कि यहाँ लड़कियों की तादाद कम है हमें लड़कियों की संख्या बढ़ानी है, उन्हें राजनीति में आगे लाना है.

महिलाओं को ज़्यादा चुनाव लड़ाइए. उनको पार्टी में पदाधिकारी बनाइए , लड़कियां बीडीसी की मेम्बर हों. पार्षद हों. महिलाओं को एमएलए बनाइए. पार्टी में हर जगह महिलाएं कंधे से कंधा मिला के चलेंगी तो पार्टी मजबूत होगी.”

अखिलेश ने चुटीले अन्दाज़ में दिया जवाब

सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने मंच से पिता मुलायम की इन बातों का कुछ चुटीले अन्दाज़ में जवाब देते हुए कहा कि, “नेता जी की बात मानेंगे. आधी आबादी को आगे बढ़ाएंगे . मैंने अपनी पत्नी को पहले ही लोकसभा में भेज दिया.”

चाचा शिवपाल को झटका

समाजवादी पार्टी के मंच से मुलायम का पार्टी के पक्ष में बोलना अखिलेश यादव और समाजवादी पार्टी के लिए एक राहत की ख़बर भी है क्योंकि अखिलेश के नाराज चाचा शिवपाल ने अपने समाजवादी सेकूलर मोर्चे के झंडे में अपने साथ मुलायम की तस्वीर भी लगाई थी जिससे ये सस्पेंस बना हुआ था कि मुलायम किसे आशीर्वाद देंगे. लेकिन आज मुलायम ने समाजवादी पार्टी को मजबूत करने पे भी ज़ोर दिया. मुलायम सिंह यादव ने कहा, “चुनाव जिताना है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here