Home Positive Reflections सीएम योगी के नये दफ्तर में जाना नहीं है आसान, नवरात्रि पर...

सीएम योगी के नये दफ्तर में जाना नहीं है आसान, नवरात्रि पर नये दफ्तर में बैठे सीएम !

150
0

लखनऊ :- लोक भवन की पुख्ता सुरक्षा के लिए अंदर और बाहर चप्पे-चप्पे पर सुरक्षाकर्मियों को तैनात करने की कवायद तेज कर दी गयी है। पहली मंजिल पर बने कंट्रोल रूम के कील-कांटे भी दुरुस्त किए जा रहे हैं और जल्द ही पुलिस रेडियो विभाग के अधिकारी और कर्मचारी इसे पूरी तरह क्रियाशील करने की तैयारी में हैं। खास बात यह है कि एनेक्सी के मुकाबले लोक भवन में प्रवेश कर पाना आसान नहीं होगा। लोक भवन जाने के अधिकृत लेाग पहले तल पर पास बनवाने के बाद ही पंचम तल की ओर रुख कर पाएंगे।

लोक भवन की सुरक्षा का काम देख रहे अधिकारियों की मानें तो इस इमारत के हर महत्वपूर्ण प्वाइंट को सीसीटीवी से लैस किया गया है। हर तरह के सिग्नल और मैसेजिंग को ट्रैक करने के लिए कंट्रोल रूम में हाईटेक उपकरण लगाए जा रहे हैं। लोक भवन के भीतर सुरक्षा की दृष्टि से बनाए गये वॉच टावर्स पर पीएसी के जवानों को तैनात किया जाना है। वहीं बाहर सड़क पर भी खासी तादाद में सुरक्षाकर्मी तैनात किए जाएंगे। लोक भवन के भीतर सुरक्षा का जिम्मा सचिवालय सुरक्षा के जिम्मे रहेगा जिसके लिए पूर्व में ही 98 पद स्वीकृत किए जा चुके हैं। इसके अलावा पंचम तल पर मुख्यमंत्री सुरक्षा के अधिकारी और कर्मचारी तैनात किए जाएंगे जिनमें एनएसजी और एटीएस के कमांडो शामिल हैं। इसके अलावा लोक भवन का जल्द ही एक और सिक्योरिटी ऑडिट भी करने की तैयारी है। यह करीब डेढ़ साल पहले भी हुआ था पर बदले हालात में सुरक्षा में कोई चूक न हो, इसके लिए यह कवायद की जा रही है।

इतना ही नहीं, लोक भवन की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए बापू भवन पर बनने वाले मेट्रो के स्टेशन पर भी सुरक्षा के खास इंतजाम करने की तैयारी है। वहीं लोक भवन के सी ब्लॉक के निर्माणाधीन होने की वजह से एलआईयू को खास नजर रखने को कहा गया है। देर रात तक चलने वाली मुख्यमंत्री की बैठकों की वजह से सुरक्षा के पुख्ता बंदोबस्त करने को अलग से प्लान तैयार किया जा रहा है। इसके लिए डीजीपी मुख्यालय के साथ सुरक्षा शाखा और लखनऊ पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों को निर्देशित किया जा चुका है।

मंगलवार को कैबिनेट के बाद योगी जी ने अपने नये कार्यालय से काम की शुरूआत की और वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठकें की। जल्द ही लोकभवन में बाकी अहम विभागों के दफ्तर भी शिफ्ट करने की तैयारी है। इनमें मुख्य सचिव कार्यालय, नियुक्ति एवं कार्मिक विभाग, नागरिक उड्डयन विभाग आदि मुख्य हैं। इन विभागों को उनके कमरे भी अलॉट कर दिए गये हैं। ध्यान रहे कि मुख्यमंत्री अक्सर लोकभवन आते थे पर ज्यादातर कामकाज लाल बहादुर शास्त्री भवन स्थित अपने कार्यालय से ही निपटाते हैं। हालांकि मुख्यमंत्री कार्यालय के कुछ अफसरों को पूर्व में ही कमरे अलॉट कर दिए गये थे जिन्होंने यहां बैठना भी शुरू कर दिया था।

लोकभवन के प्रथम तल पर मुख्य सचिव के लिए पांच कमरे आवंटित किए गये हैं। वहीं उनके स्टाफ अफसर व स्टाफ के लिए छह कमरे दिए गये हैं। विशेष सचिव नियुक्ति एवं स्टाफ को कमरा नंबर 107 और 108 अलॉट किया गया है। कमरा नंबर 117 मुख्य सचिव का सभाकक्ष बनाया गया है। नियुक्ति विभाग के अपर मुख्य सचिव/ प्रमुख सचिव एवं स्टाफ कक्ष को कमरा नंबर 110,111 और 112 दिया गया है। मुख्य सचिव के सूचना अधिकारी को कमरा नंबर 109, सिक्योरिटी कंट्रोल रूम को कमरा नंबर 115 अलॉट किया गया है। इसी तरह दूसरे तल पर कमरा नंबर 201 और 202 सचिव मुख्यमंत्री के नाम अलॉट है। कमरा नंबर 202, 218, 219 विशेष सचिव नियुक्ति विभाग को दिया जाना है। इसके अलावा दूसरे तल पर मुख्य सचिव का कंप्यूटर कक्ष, नियुक्ति विभाग के संयुक्त सचिव, उप सचिव व अनु सचिव को अलॉट किए गये हैं। इसी तरह चतुर्थ तल पर मुख्यमंत्री कार्यालय के अधिकारी व स्टाफ, अभिलेख कक्ष होगा। वहीं भूतल पर पंचम तल पास ऑफिस, सचिव नागरिक उड्डयन विभाग के कार्यालय होंगे। बेसमेंट में आईजीआरएस का कार्यालय बनाया गया है। पांचवा तल पूरी तरह मुख्यमंत्री कार्यालय के लिए होगा।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here