राफेल सौदे को लेकर फ्रांस के पू्र्व राष्ट्रपति ओलांद ने जो बयान दिया है उस पर रविवार को फ्रांस के जूनियर विदेश मंत्री जीन-बापटिस्ट लीमोयने ने कहा, ‘‘मेरा मानना है कि यह जो बयान दिया गया है इससे किसी का भला नहीं होने वाला है और सबसे बड़ी बात है कि इससे फ्रांस की कोई फायदा नहीं होने वाला है.’’

पेरिस: फ्रांस सरकार ने रविवार को आशंका जताई कि पूर्व राष्ट्रपति फ्रंस्वा ओलांद के राफेल विमान सौदे को लेकर दिए गए बयान के बाद भारत के साथ उसके संबंधों को नुकसान पहुंच सकता है. राफेल लड़ाकू जेट विमानों की खरीद को लेकर ओलांद के बयान ने भारत में पहले से चल रहे विवाद को और हवा दे दी है.

 

ओलांद के बयान पर रविवार को फ्रांस के जूनियर विदेश मंत्री जीन-बापटिस्ट लीमोयने ने कहा, ‘‘मेरा मानना है कि यह जो बयान दिया गया है इससे किसी का भला नहीं होने वाला है और सबसे बड़ी बात है कि इससे फ्रांस की कोई फायदा नहीं होने वाला है.’’

 

रेडियो जे को दिए एक साक्षात्कार में लीमोयने ने कहा, ‘‘कोई भी जब पद पर नहीं है और वह ऐसा वक्तव्य देता है जिससे भारत में विवाद खड़ा होता है और भारत और फ्रांस के बीच रणनीतिक भागीदारी को नुकसान पहुंचाता है यह वास्तव में उचित नहीं है.’’

 

ओलांद की अब इस घोषणा से कि डसॉल्ट के सामने इसे लेकर कोई विकल्प नहीं था, मामले को और हवा मिल गई. भारत में विपक्ष इस मुद्दे को लेकर सरकार पर हमलावर है. विपक्ष का आरोप है कि सरकार ने मामले में अनिल अंबानी की मदद की है और अंबानी उसी राज्य से आते हैं जहां से मोदी आते हैं और वो उनके समर्थक हैं.

 

ओलांद ने पिछले साल मई में फ्रांस के राष्ट्रपति का पद छोड़ा था. शुक्रवार को उन्होंने कहा था कि अपनी एक भारत यात्रा के दौरान फ्रांस की विमान कंपनी दसॉल्ट एविएशन को 2016 में भारतीय प्रशासन के साथ हुए सौदे के तहत भागीदार चुनने में कोई विकल्प नहीं दिया गया था.

 

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार ने डसॉल्ट से 36 राफेल जेट विमान खरीदने का समझौता किया है. इस सौदे के बाद डसॉल्ट ने अनिल अंबानी के नेतृत्व वाली रिलायंस डिफेंस के साथ भागीदारी तय की. ये सौदा 59,000 करोड रुपए का है.

साभार -ABP NEWS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here